Information and Facts about Bhagalpur, Bihar

Information about Bhagalpur

Name Bhagalpur
Country India
Continent Asia
Come in existance
Previous name any Bhagdatpuram
Area in KM 110 km2
Area in miles 40 sq mi
Water Area 110 km²
Population 410,210
Population Density 1,180 inhabitants per square kilometre (3,100/sq mi)
Lat Long 25.3478° N, 86.9824° E
Name of Monuments Vikramshila, Mount Mandar, Colganj Rock Cut Temple, Sultanganj, Kuppa Ghat
Places to Visit Mandar Hills, Ghuran Peer Baba, Vaasupujya Bhagwan Mahavir Jain Mandir, Ancient Vikramsila University, Bhikhanpur, Colganj Rock Cut Temples, Burhanath Temple, Ajgaibinath Temple,
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 641
Zip Code Start 812001
Languages Angika, Hindi
Mayor Deepak Bhuwania
Rivers Ganges
Airports Bhagalpur Airport

 

Historical Facts about Bhagalpur in Hindi

भागलपुर बिहार प्रान्त का एक शहर है। गंगा के तट पर बसा यह एक अत्यंत प्राचीन शहर है। पुराणों में और महाभारत में इस क्षेत्र को अंग प्रदेश का हिस्सा माना गया है। भागलपुर के निकट स्थित चम्पानगर महान पराक्रमी शूरवीर कर्ण की राजधानी मानी जाती रही है।भागलपुर सिल्क के व्यापार के लिये विश्वविख्यात रहा है,पवित्र् गंगा नदी को जाह्नवी के नाम से भी जाना जाता है। जिस स्‍थान पर गंगा को यह नाम दिया गया उसे अजगैवी नाथ कहा जाता है यह तीर्थ भी भागलपुर में ही है। बिहार के गौरवशाली इतिहास में भागलपुर एक नगीने की तरह है।

इतिहास में झांकें तो हम पाते हैं बीते समय में भागलपुर भारत के दस बेहतरीन शहरों में से एक था। आज का भागलपुर सिल्‍क नगरी के रूप में ज्‍यादा जाना जाता है। इसका इतिहास काफी पुराना है। भागलपुर को (ईसा पूर्व 5वीं सदी) चंपावती के नाम से जाना जाता था। यह वह काल था जब गंगा के मैदानी क्षेत्रों में भारतीय सम्राटों का वर्चस्‍व बढ़ता जा रहा था। अंग 16 महाजनपदों में से एक था जिसकी राजधानी चंपावती थी।

अंग महाजनपद को पुराने समय में मलिनी, चम्‍पापुरी, चम्‍पा मलिनी, कला मलिनी आदि आदि के नाम से जाना जाता था।जबकि कर्ण पर्व में अंग को एक ऐसे प्रदेश के रूप में जाना जाता था जहां पत्‍नी और बच्‍चों को बेचा जाता है। वहीं दूसरी ओर महाभारत में अंग (चम्‍पा) को एक तीर्थस्‍थल के रूप में पेश किया गया है। इस ग्रंथ के अनुसार अंग राजवंश का संस्‍थापक राजकुमार अंग थे। जबकि रामयाण के अनुसार यह वह स्‍थान है जहां कामदेव ने अपने अंग को काटा था।

 

भागलपुर के मुख्य आकर्षण

मंदार पहाड़ी-

यह पहाड़ी भागलपुर से 48 किलोमीटर की दूरी पर है, जो अब बांका जिले मे स्थित है। इसकी ऊंचाई 800 फीट है। इसके संबंध में कहा जाता है कि इसका प्रयोग सागर मंथन में किया गया था। किंवदंतियों के अनुसार इस पहाड़ी के चारों ओर अभी भी शेषनाग के चिन्‍ह को देखा जा सकता है, जिसको इसके चारों ओर बांधकर समुद्र मंथन किया गया था। कालिदास के कुमारसंभवम में पहाड़ी पर भगवान विष्‍णु के पदचिन्‍हों के बारे में बताया गया है। इस पहाड़ी पर हिन्‍दू देवी देवताओं का मंदिर भी स्थित है।

विक्रशिला विश्‍वविद्यालय

-विक्रमशिला विश्‍वविद्यालय नालन्‍दा के समकक्ष माना जाता था। इसका निर्माण पाल वंश के शासक धर्मपाल  ने करवाया था। धर्मपाल ने यहां की दो चीजों से प्रभावित होकर इसका निर्माण कराया था। पहला, यह एक लोकप्रिय तांत्रिक केंद्र था जो कोसी और गंगा नदी से घिरा हुआ था। यहां मां काली और भगवान शिव का मंदिर भी स्थित है।

कहलगांव

-यहां तीन छोटे-छोटे टापू हैं। कहा जाता है कि जाह्नु ऋषि के तप में गंगा की तीव्र धारा से यहीं पर व्‍यवधान पड़ा था। इससे क्रो‍धित होकर ऋषि ने गंगा को अपनी जांघ में कर लिया था। बाद में राजा भागीरथ के प्रार्थना के उपरांत उन्‍होंने गंगा को छोड़ दिया। इसके बाद से गंगा की धाराएं बदल गई और यह दक्षिण से उत्‍तर की ओर गमन करने लगी। एक मात्र पत्‍थर पड़ बना हुआ मंदिर भी देखने लायक है।

Bihar News in Hindi , History of Bhagalpur, बिहार की ताज़ा खबरें, बिहार समाचार, बिहार न्यूज़ हिंदी ,

Bhagalpur News in Hindi

Information about BhagalpurAll information about Bhagalpur

 

 

Information and Facts about Gaya, India

Information about Gaya

Name Gaya
Country India
Continent Asia
Come in existance 1787
Previous name any Daegaya
Area in KM 90.17 km2
Area in miles 34.81 sq mi
Water Area 90.17 km²
Population 470,839
Population Density 9,482/km2 (24,560/sq mi)
Lat Long 24.7955° N, 84.9994° E
Name of Monuments Mahabodhi Temple, Vishnupad Temple, Dungeshwari Cave Temples, Barabar Caves, Bodhi Tree, Chinese Temple And Monastery
Places to Visit Mahabodhi Temple, Vishnupad Temple, Dungeshwari Cave Temples, Barabar Caves, Bodhi Tree, Chinese Temple And Monastery, Bodhgaya Archaeological Museum, Muchalinda Lake, Thai Temple And Monastery, Royal Bhutan Monastery
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 91-631
Zip Code Start 823001
Languages Hindi, English, Urdu
Mayor Soni Kumari
Rivers Ganga
Airports Gaya International Airport

Historical facts of Gaya in Hindi

300px-mahabodhitemple

गया, झारखंड और बिहार के फल्गु नदी के तट पर बसा भारत के बिहार राज्य का दूसरा बड़ा शहर है। वाराणसी की तरह गया की प्रसिद्धि मुख्य रुप से एक धार्मिक नगरी के रुप में है। पितृपक्ष के अवसर पर यहाँ हजारों श्रद्धालु पिंडदान के लिये जुटते हैं। गया सड़क, रेल और वायु मार्ग द्वारा पूरे भारत से जुड़ा है। नवनिर्मित गया अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा  है। गया से 17 किलोमीटर की दूरी पर बोधगया स्थित है जो बौद्ध तीर्थ स्थल है और यहीं बोधि वृक्ष के नीचे भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।

गया बिहार के महत्वपूर्ण तीर्थस्थानों में से एक है। यह शहर खासकर हिन्दू तीर्थयात्रियों के लिए काफी प्रसिद्ध है। यहां का विष्णुपद मंदिर पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है। दंतकथाओं के अनुसार भगवान विष्णु के पांव के निशान पर इस मंदिर का निर्माण कराया गया है। हिन्दू धर्म में इस मंदिर को अहम स्थान प्राप्त है। गया पितृदान के लिए भी प्रसिद्ध है। कहा जाता है कि यहां फल्गु नदी के तट पर पिंडदान करने से मृत व्यक्ति को बैकुण्ठ की प्राप्ति होती है। लोगो का मानना है कि गयासुर नामक दैत्य का बध करते समय भगवान विष्णु के पद चिह्न यहां पड़े थे जो आज भी विष्णुपद मंदिर में देखने को मिलते हैं।

गया मौर्य काल में एक महत्वपूर्ण नगर था। खुदाई के दौरान सम्राट अशोक से संबंधित आदेश पत्र पाया गया है। मध्यकाल में यह शहर मुगल सम्राटों के अधीन था। मुगलकाल के पतन के उपरांत गया पर अनेक क्षेत्रीय राजाओं ने राज किया। 1787 में होल्कर वंश की साम्राज्ञी महारानी अहिल्याबाई ने विष्णुपद मंदिर का पुनर्निर्माण कराया था।

गया के दर्शनीय स्थल

विष्णुपद मंदिर-फल्गु नदी के पश्चिमी किनारे पर स्थित यह मंदिर 30 मीटर ऊंचा है जिसमें आठ खंभे हैं। इन खंभों पर चांदी की परतें चढ़ाई हुई है। मंदिर के गर्भगृह में भगवान विष्णु के 40 सेंटीमीटर लंबे पांव के निशान हैं। इस मंदिर का 1787 में इंदौर की महारानी अहिल्या बाई ने नवीकरण करवाया था।

जामा मस्जिद– बिहार की सबसे बडी मस्जिद है। यह तकरीबन २०० साल पुरानी है। इसमे हजारो लोग साथ नमाज अदा कर सकते हैं।

बानाबर पहाड़-गया से लगभग २० किलोमीटर उत्तर बेलागंज से १० किलोमीटर पूरब मे स्थित है। इसके ऊपर भगवान शिव का मन्दिर है, जहाँ हर वर्ष हजारों श्रद्धालू सावन के महीने मे जल चढ़ते है। कहते हैं इस मन्दिर को बानासुर ने बनवाया था। पुनः सम्राट अशोक ने मरम्मत करवाया। इसके नीचे सतघरवा की गुफा है, जो प्राचीन स्थापत्य कला का नमूना है।

प्राचीन एबं अद्भुत शिव मंदिर-चोवार गया शहर से 35 किलोमीटर पूर्व में एक गॉव है चोवार जो की अपने आप में एक बहुत ही अद्भुत है इस गॉव में एक बहुत ही प्राचीन शिव मंदिर है जहा सैकड़ो सर्धालू बाबा बालेश्वरनाथ के ऊपर जल चढाते है पर आजतक ये जल कहाँ जाता है कुछ पता नहीं चलता है इसके पीछे के कारन किसी को नहीं पता चला लगभग हजारो सालों से ये चमत्कार की जाँच करने आये सैकड़ो बैज्ञानिको ने भी ये दाबा किया है की ये भगवान शिव का चमत्कार है। और इसी गॉव में कुछ सालों पहले सड़क निर्माण के दौरान यहाँ एक बहुत ही बड़ा घड़ा निकला जिसमे हजारो शुद्ध चाँदी के सिक्के निकले थे! और आज भी इस गॉव से अष्टधातु की अनेको मूर्तियाँ है जो की, आज भी शिव मंदिर में देखने को मिलता है। इस गॉव में एक ताड़ का पेड़ भी है जो इस चोवार गॉव की शोभा बढ़ाता है इसमे खास बात तो ये है की,ये ताड़ का पेड़ एक, दो, नहीं बल्कि पुरे तिन डाल का पेड़ है जो की भगवान शिव की त्रिशूल की आकार का है! दूर-दूर से लोग इस पेड़ को देखने के लिये आते हैं।

कोटेस्वरनाथ-यह अति प्राचीन शिव मन्दिर मोरहर नदी के किनारे मेन गाँव में स्थित है। यहाँ हर वर्ष शिवरात्रि में मेला लगता है। यहाँ पहुँचने हेतु गया से लगभग ३० किमी उत्तर पटना-गया मार्ग पर स्थित मखदुमपुर से पाईबिगहा समसारा होते हुए जाना होता है। गया से पाईबिगहा के लिये सीधी बस सेवा उपलब्ध है।

सूर्य मंदिर-सूर्य मंदिर प्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर के 20 किलोमीटर उत्तर और रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर दूर स्थित है। भगवान सूर्य को समर्पित यह मंदिर सोन नदी के किनारे स्थित है। दिपावली के छ: दिन बाद बिहार के लोकप्रिय पर्व छठ के अवसर पर यहां तीर्थयात्रियों की जबर्दस्त भीड़ होती है। इस अवसर पर यहां मेला भी लगता है।

ब्रह्मयोनि पर्वत-इस पहाड़ी की चोटी पर चढ़ने के लिए ४४० सीढ़ियों को पार करना होता है। इसके शिखर पर भगवान शिव का मंदिर है। यह मंदिर विशाल बरगद के पेड़ के नीचे स्थित हैं जहां पिंडदान किया जाता है। इस स्थान का उल्लेख रामायण में भी किया गया है। दंतकथाओं पर विश्‍वास किया जाए तो पहले फल्गु नदी इस पहाड़ी के ऊपर से बहती थी। लेकिन देवी सीता के शाप के प्रभाव से अब यह नदी पहाड़ी के नीचे से बहती है। यह पहाड़ी हिन्दुओं के लिए काफी पवित्र तीर्थस्थानों में से एक है। यह मारनपुर के निकट है।

मंगला गौरी-मंगला गौरी पहाड पर स्तिथ यह मंदिर मां शक्ति को समर्पित है। यह स्थान १८ माहा शक्ति पिथों मैं से एक है। माना जाता है कि जो भी यहां पुजा कराते हैं उन्कि मन कि इच्छा पुरि होति है। इसी मन्दिर के परिवेश मैं मां काली, गणेश, हनुमान तथा भगवान शिव के भी मन्दिर स्तिथ हैं।

बराबर गुफा-यह गुफा गया से 20 किलोमीटर उत्तर में स्थित है। इस गुफा तक पहुंचने के लिए 7 किलोमीटर पैदल और 10 किलोमीटर रिक्शा या तांगा से चलना होता है। यह गुफा बौद्ध धर्म के लिए महत्वपूर्ण है। यह बराबर और नागार्जुनी श्रृंखला के पहाड़ पर स्थित है। इस गुफा का निर्माण बराबर और नागार्जुनी पहाड़ी के बीच सम्राट अशोक और उनके पोते दशरथ के द्वारा की गई है। इस गुफा उल्लेख ई॰एम. फोस्टर की किताब ए पैसेज टू इंडिया में भी किया गया है। इन गुफओं में से 7 गुफाएं भारतीय पुरातत्व विभाग की देखरख में है।

बिहार की ताज़ा खबरें, बिहार समाचार, 
Gaya News in Hindi

Information and Facts about Patna, India

Information about Patna

Name Patna
Country India
Continent Asia
Come in existance 1825
Previous name any Pataliputra,
Area in KM 99.45 km
Area in miles 38.40 sq mi
Water Area 3,202 km²
Population 1,683,200
Population Density 16,925/km2 (43,840/sq mi)
Lat Long 25.5941° N, 85.1376° E
Name of Monuments Har Mandir Takht, Raj Bhavan, Nalanda University, Patna Museum, Gandhi Museum,
Places to Visit Hanuman Mandir, Nalanda, Takht Sri Patna Sahib, Buddha Smriti Park, Sanjay Gandhi Biological Park, Golghar, Patna Museum, Takhat Shri Harimandirji Patna Sahib, Gandhi Maidan, Eco Park, Pavapuri Jain Temple, P&M Mall, Gandhi Ghat Near Nit Patna, Patan Devi Temple, Shahid Smarak, Srikrishna Science Centre, Jalmandir Temple, Mahatma Gandhi Setu, Patna Planetarium, Kali Mandir-Darbhanga House , ISKCON Temple Patna, Funtasia Island, Maner Sharif, Martyr’s Memorial, Kargil Chowk
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 91-612
Zip Code Start 800 XXX
Languages Hindi, English, Magadhi
Mayor Afzal Imam
Rivers Ganges
Airports Lok Nayak Jayaprakash Airport

 

Historical Facts of Patna in Hindi

प्राचीन पटना (पूर्वनाम- पाटलिग्राम या पाटलिपुत्र) सोन और गंगा नदी के संगम पर स्थित था। सोन नदी आज से दो हजार वर्ष पूर्व अगमकुँआ से आगे गंगा मे मिलती थी। पाटलिग्राम मे गुलाब (पाटली का फूल) काफी मात्रा में उपजाया जाता था। गुलाब के फूल से तरह-तरह के इत्र, दवा आदि बनाकर उनका व्यापार किया जाता था इसलिए इसका नाम पाटलिग्राम हो गया। लोककथाओं के अनुसार, राजा पत्रक को पटना का जनक कहा जाता है। उसने अपनी रानी पाटलि के लिये जादू से इस नगर का निर्माण किया। इसी कारण नगर का नाम पाटलिग्राम पड़ा। पाटलिपुत्र नाम भी इसी के कारण पड़ा। संस्कृत में पुत्र का अर्थ बेटा तथा ग्राम का अर्थ गांव होता है।

२५०० वर्षों से अधिक पुराना शहर होने का गौरव दुनिया के बहुत कम नगरों को हासिल है। बौद्ध धर्म के प्रवर्तक गौतम बुद्ध अपने अन्तिम दिनों में यहाँ से होकर गुजरे थे। उनकी यह भविष्यवाणी थी कि नगर का भविष्य उज्जवल होगा, बाढ़ या आग के कारण नगर को खतरा बना रहेगा। आगे चल कर के महान नन्द शासकों के काल में इसका और भी विकास हुआ एवं उनके बाद आने वाले शासकों यथामौर्य साम्राज्य के उत्कर्ष के बाद पाटलिपुत्र भारतीय उपमहाद्वीप में सत्ता का केन्द्र बन गया। चन्द्रगुप्त मौर्य का साम्राज्य बंगाल की खाड़ी से अफ़गानिस्तान तक फैल गया था। मौर्य काल के आरंभ में पाटलिपुत्र के अधिकांश राजमहल लकड़ियों से बने थे, पर सम्राट अशोक ने नगर को शिलाओं की संरचना में तब्दील किया। चीन के फाहियान ने, जो कि सन् 399-414 तक भारत यात्रा पर था, अपने
पुस्तक मे इस शहर के विषय मे एवं यहां के लोगों के बारे मे भी विशद विवरण दिया है जो आज भी भारतीय इतिहास के छात्रों के लिए सन्दर्भ के रूप मे काम आता है। शीघ्र ही पाटलीपुत्र ज्ञान का भी एक केन्द्र बन गया। बाद में, ज्ञान की खोज में कई चीनी यात्री यहाँ आए और उन्होने भी यहां के बारे में अपने यात्रा-वृतांतों में बहुत कुछ लिखा है। मौर्यों के पश्चात कण्व एवं शुंगो सहीत अनेक शासक आये लेकिन इस नगर का महत्व कम नही हुआ।

इसके पश्चात नगर पर गुप्त वंश सहित कई राजवंशों का राज रहा। इन राजाओं ने यहीं से भारतीय उपमहाद्वीप पर शासन किया। गुप्त वंश के शासनकाल को प्राचीन भारत का स्वर्ण युग कहा जाता है। पर लगातार होने वाले हुणो के आक्रमण एवं गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद इस नगर को वह गौरव नहीं मिल पाया जो एक समय मौर्य वंश या गुप्त वंश के समय प्राप्त था।

गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद पटना का भविष्य काफी अनिश्चित रहा। 12 वीं सदी में बख़्तियार खिलजी ने बिहार पर अपना अधिपत्य जमा लिया और कई आध्यात्मिक प्रतिष्ठानों को ध्वस्त कर डाला। इस समय के बाद पटना देश का सांस्कृतिक और राजनैतिक केन्द्र नहीं रहा। मुगलकाल में दिल्ली के सत्ताधारियों ने अपना नियंत्रण यहाँ बनाए रखा। इस काल में सबसे उत्कृष्ठ समय तब आया जब शेरशाह सूरी ने नगर को पुनर्जीवित करने की कोशिश की। उसने गंगा के तीर पर एक किला बनाने की सोची। उसका बनाया कोई दुर्ग तो अभी नहीं है, पर अफ़ग़ान शैली में बना एक मस्जिद अभी भी है।

मुगल बादशाह अकबर की सेना 1574 ईसवी में अफ़गान सरगना दाउद ख़ान को कुचलने पटना आया। अकबर के राज्य सचिव एवं आइने-अकबरी के लेखक अबुल फ़जल ने इस जगह को कागज, पत्थर तथा शीशे का सम्पन्न औद्योगिक केन्द्र के रूप में वर्णित किया है। पटना राइस के नाम से यूरोप में प्रसिद्ध चावल के विभिन्न नस्लों की गुणवत्ता का उल्लेख भी इन विवरणों में मिलता है।

शताब्दी में पटना अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का केन्द्र बन गया। अंग्रेज़ों ने 1620 में रेशम तथा कैलिको के व्यापार के लिये यहाँ फैक्ट्री खोली। जल्द ही यह सॉल्ट पीटर (पोटेशियम नाइट्रेट) के व्यापार का केन्द्र बन गया जिसके कारण फ्रेंच और डच लोग से प्रतिस्पर्धा तेज हुई। बक्सर के निर्णायक युद्ध के बाद नगर इस्ट इंडिया कंपनी के अधीन चला गया और वाणिज्य का केन्द्र बना रहा।

पटना के दर्शनीय स्थल

    अगम कुआँ – मौर्य वंश के शासक सम्राट अशोक के काल का एक कुआँ गुलजा़रबाग स्टेशन के पास स्थित है। पास ही स्थित एक मन्दिर स्थानीय लोगों के शादी-विवाह का मह्त्वपूर्ण स्थल है।

    कुम्रहार – चंद्रगुप्त मौर्य, बिन्दुसार तथा अशोक कालीन पाटलिपुत्र के भग्नावशेष को देखने के लिए यह सबसे अच्छी जगह है। कुम्रहार परिसर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित तथा संचालित है और सोमवार को छोड़ सप्ताह के हर दिन १० बजे से ५ बजे तक खुला रहता है।

    बेगू हज्जाम की मस्जिद सन् 1489 में बंगाल के शासक अलाउद्दीन शाह द्वारा निर्मित.

पत्थर की मस्जिद – जहाँगीर के पुत्र शाह परवेज़ द्वारा 1621 में निर्मित यह छोटी सी मस्जिद अशोक राजपथ पर सुलतानगंज में स्थित है।

    शेरशाह की मस्जिद अफगान शैली में बनी यह मस्जिद बिहार के महान शासक शेरशाह सूरी द्वारा 1540-1545 के बीच बनवाई गयी थी। पटना में बनी यह सबसे बड़ी मस्जिद है।

    पादरी की हवेली – सन 1772 में निर्मित बिहार का प्राचीनतम चर्च बंगाल के नवाब मीर कासिम तथा ब्रिटिस ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच की कड़वाहटों का गवाह है।।

ख़ुदाबख़्श लाईब्रेरी अशोक राजपथ पर स्थित यह राष्ट्रीय पुस्तकालय 1891 में स्थापित हुआ था। यहाँ कुछ अतिदुर्लभ मुगल कालीन पांडुलपियां हैं।

क़िला हाउस (जालान हाउस) दीवान बहादुर राधाकृष्ण जालान द्वारा शेरशाह के किले के अवशेष पर निर्मित इस भवन में हीरे जवाहरात तथा चीनी वस्तुओं का एक निजी संग्रहालय है।

तख्त श्रीहरमंदिर पटना सिखों के दसमें और अंतिम गुरु गोविन्द सिंह की जन्मस्थली है। नवम गुरु श्री तेगबहादुर के पटना में रहने के दौरान गुरु गोविन्दसिंह ने अपने बचपन के कुछ वर्ष पटना सिटी मे बिताए थे। बालक गोविन्दराय के बचपन का पंगुरा (पालना), लोहे के चार तीर, तलवार, पादुका तथा ‘हुकुमनामा’ यहाँ गुरुद्वारे में सुरक्षित है। यह स्थल सिक्खों के लिए अति पवित्र है।

महावीर मन्दिर संकटमोचन रामभक्त हनुमान मन्दिर पटना जंक्शन के ठीक बाहर बना है। न्यू मार्किट में बने मस्जिद के साथ खड़ा यह मन्दिर हिंदू-मुस्लिम एकता का प्रतीक है।

गांधी मैदान वर्तमान शहर के मध्यभाग में स्थित यह विशाल मैदान पटना का दिल है। जनसभाओं, सम्मेलनों तथा राजनीतिक रैलियों के अतिरिक्त यह मैदान पुस्तक मेला तथा दैनिक व्यायाम का भी केन्द्र है। इसके चारों ओर अति महत्वपूर्ण सरकारी इमारतें और प्रशासनिक तथा मनोरंजन केंद्र बने हैं।

गोलघर 1770 ईस्वी में इस क्षेत्र में आए भयंकर अकाल के बाद अनाज भंडारण के लिए बनाया गया यह गोलाकार ईमारत अपनी खास आकृति के लिए प्रसिद्ध है। 1786 ईस्वी में जॉन गार्स्टिन द्वारा निर्माण के बाद से गोलघ‍र पटना शहर क प्रतीक चिह्न बन गया। दो तरफ बनी सीढियों से ऊपर जाकर पास ही बहनेवाली गंगा और इसके परिवेश का शानदार अवलोकन संभव है।

गाँधी संग्रहालय गोलघर के सामने बनी बाँकीपुर बालिका उच्च विद्यालय के बगल में महात्मा गाँधी की स्मृतियों से जुड़ी चीजों का नायाब संग्रह देखा जा सकता है। हाल में इसी परिसर में नवस्थापित चाणक्य विधि विश्वविद्यालय का अध्ययन केंद्र भी अवलोकन योग्य है।

श्रीकृष्ण विज्ञान केंद्र गाँधी मैदान के पश्चिम भाग में बना विज्ञान परिसर स्कूली शिक्षा में लगे बालकों के लिए ज्ञानवर्धक केंद्र है।

पटना संग्रहालय जादूघर के नाम से भी जानेवाले इस म्यूज़ियम में प्राचीन पटना के हिन्दू तथा बौद्ध धर्म की कई निशानियां हैं। लगभग ३० करोड़ वर्ष पुराने पेड़ के तने का फॉसिल यहाँ का विशेष धरोहर है।

संजय गांधी जैविक उद्यान – राज्यपाल के सरकारी निवास राजभवन के पीछे स्थित जैविक उद्यान शहर का फेफड़ा है। विज्ञानप्रेमियों के लिए ‌यह जन्तु तथा वानस्पतिक गवेषणा का केंद्र है। व्यायाम करनेवालों तथा पिकनिक के लिए यह् पसंदीदा स्थल है।

महावीर मंदिर से पटना शहर का दृश्य

दरभंगा हाउस इसे नवलखा भवन भी कहते हैं। इसका निर्माण दरभंगा के महाराज कामेश्वर सिंह ने करवाया था। गंगा के तट पर अवस्थित इस प्रासाद में पटना विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर विभागों का कार्यालय है। इसके परिसर में एक काली मन्दिर भी है जहां राजा खुद अर्चना किया करते थे।

Information and Historical Facts about Hyderabad

Information about Hyderabad

Name Hyderabad
Country India
Continent Asia
Come in existance 24-Nov-1949
Previous name any Baghnagar
Area in KM 650 km2
Area in miles 250 sq mi
Water Area 650 km²
Population 6,809,970
Population Density 10,477/km2 (27,140/sq mi)
Lat Long 17.3850° N, 78.4867° E
Name of Monuments Chowmahalla Palace, Charminar, Falaknuma Palace, Golconda Fort, Qutub Shahi Tombs, The Buddha Of Hussain Sagar
Places to Visit Birla Mandir, Ramoji Film City, Salar Jung Museum, Chilkur Balaji Temple, Taj Falaknuma Palace, Golkonda Fort, Shri Jagannath Temple, Chowmahalla Palace, Nehru Zoological Park, Charminar, Buddha Statue, Inorbit Mall, Peddamma Temple, Hyderabad International Convention Center, NTR Garden, Lumbini Park, KBR National Park, Qutab Shahi Tombs, Mecca Masjid, GVK One Mall, Surendrapuri, Sanghi Temple
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 040
Zip Code Start 500089
Languages Telugu, Urdu
Mayor Bonthu Ram Mohan
Rivers Musi River
Airports Rajiv Gandhi International Airport

 

Historical Facts about Hyderabad in Hindi

हैदराबाद का इतिहास सन 1591 से शुरू होता है, जब “कुतुब शाही” राजवंश के एक शासक मुहम्मद कुली कुतुब शाह ने मूसी नदी के तट पर 1591 में हैदराबाद शहर की स्थापना की, उसी साल, चारमीनार बनवाने का भी आदेश दिया। मुहम्मद कुली कुतुब शाह एक स्थानीय बंजारा लड़की भागमती से प्रेम कर बैठा था, लड़की से शादी के बाद उसने इस शहर का नाम भाग्यनगरम् रखा। 1592 में इस्लाम स्वीकार करने के बाद, भागमती का नाम हैदर महल हुआ।

१६वीम शताब्दी और शुरुआती १७वीं शताब्दी में, जैसे जैसे कुतुब शाही राजवंश की शक्ति और सत्ता बढती गयी, हैदराबाद हीरों के व्यापार का केंन्द्र बनता गया

सन १६८७ में, मुगल शासक ऒरंगजेब ने हैदराबाद पर अधिकार कर लिया। मुगल शासन के दॊरान, हैदराबाद का सॊभाग्य क्षय होने लगा। जल्द ही, मुगल शासक के द्वारा नियुक्त शहर के सूबेदार ने अधिक स्वायत्ता प्राप्त कर ली। और सन १७२४ में असफ़ जाह प्रथम, जिसे मुगल सम्राट ने “निजाम-ए-मुल्क” का खिताब दिया था, ने एक विरोधी अधिकारी को हैदराबाद पर अधिकार स्थापित करने में हरा दिया। इस तरह आसफ़ जाह राजवंश का प्रारंभ हुआ, जिसने हैदराबाद पर भारत की स्वतंत्रता के एक साल बाद (1948) तक शासन किया।

Information about Bangalore, India

Name Bangalore
Country India
Continent Na
Come in existance 1947
Previous name any Bengaluru
Area in KM 709 km2
Area in miles 274 sq mi
Earth Area 2600 sq. foot
Water Area 741 km²
Population 8,443,675
Population Density 2,985 people per sq. km.
Lat Long 12.9716° N, 77.5946° E
Name of Monuments Vidhan soudha, Bangalore Palace, Tipu Palace, Seshadrilyer Memorial Hall
Places to Visit Wonderla Amusement Park, ISKCON Temple Bangalore, Lalbagh Botanical Garden, Art of Living International Center, Ragigudda Anjaneya Temple, M Chinnaswamy Stadium, Phoenix Marketcity, Dodda Ganapathi Temple, Infant Jesus Shrine, Sri Sri Lakshmi Narasimha Temple, Orion Mall, Bull Temple, Gavi Gangadhareshwara Temple, Surayanarayana Temple, Bangalore Palace, St. Mary’s Basilica
Time Zone UTC+5:30
STD 80
Zip Code Start 560 001
Languages Kannada, Tamil, Telugu, Malayalam, English
Mayor Manjunath Narayana Reddy
Transportation Taxi, Train, Bus & Airport Tips.
Rivers Arkavathi and Vrishabhavathi.
Airports Bengaluru International Airport

Information about Bangalore in English

Bangalore is the capital of the Indian state of Karnataka, which has population more than 8.4 million and it makes it the country’s most populous city, Bangalore area of ​​709 square kilometers and city has built at a height of 920 meters above the sea level.

The city was ruled by Chola rulers and ruled by Hoysalas till the 1537 century, followed by Kempe Gowda, who was the ruler of the Vijayanagar empire, he built a fort which was the foundation of the building of modern Bangalore, in 1638 Bangalore took by Maratho they ruled here for 50 years, and then Mughal’s taken over this city from Maratho, and Mughal’s sold it to rulers of Mysore Wodeyar dynasty.

In year 1799 during the IV Anglo – Mysore War this city came under British hand and that its current form the cornerstone of being kept, British ruled this city by the name of Maharaja of Mysore, and give the benefit of this city as princely capitol of Mysore capital.

1947 in Bangalore when India became independent it was made the capital and Kingdom of Mysore, in year 2006 Bangalore changed to Bangaluru that is its Kannada name, was officially declared.

Information about Bangalore in Hindi

बेंगलुरु भारतीय राज्य कर्नाटक की राजधानी है, इसकी कुल जनसँख्या ८.४ मिलियन से ज्यादा है जो इसे देश की सर्वाधिक जनसँख्या वाला शहर बना देता है, बेंगलुरु का क्षेत्रफल ७०९ वर्ग किलोमीटर है और यहाँ शहर समुद्र तल से ९२० मीटर की ऊंचाई पर बना है।

कहा जाता है की इस शहर पर पहले चोल और फिर होय्सलास वंस के शासको ने १५३७ शताब्दी तक राज्य किया, इसके बाद केम्पे गौड़ा जो की विजयनगर साम्राज्य का शासक था उसने एक किले का निर्माण करवाया जो की आधुनिक बेंगलोर के निर्माण की नींव था, १६३८ में मराठो ने बेंगलोर को जित लिया लगभग ५० वर्षो तक यहाँ शासन किया, इसके बाद मराठो से इसे मुघलो ने हथिया लिया और मैसूर के वाडियार वंस के शासको को बेंच दिया।

१७९९ के चतुर्थ आंग्ल – मैसूर युद्ध के बाद ये नगर अंग्रेजो के हाथ में आ गया था और यही से इसके वर्तमान स्वरुप की आधारशिला राखी गयी, अंग्रेजो के अधीन होते हुए भी इसका शासन महाराजा मैसूर के नाम से होता रहा और इसी मैसूर की राजधानी बनाया गया.

१९४७ में जब भारत आजाद हुआ तब बेंगलोर को ही मैसूर राज्य की राजधानी बनाया गया और वर्ष २००६ में बंगलौर को इसके कन्नड़ नाम यानि की बेंगलुरु में आधिकारिक रूप से परिवर्तिति कर दिया गया।

Where is Istanbul

Istanbul is located in the Marmara Region of Turkey at the elevation of 39 meter from sea level with coordinates or lat long 41°00′49″N 28°57′18″E, nearest airport i.e Istanbul Atatürk Airport South-West of the city center in a distance is 20.2 k/m, Istanbul shared its border with only Faith city, as this city is sorounded by sea in its three sides

Where is Istanbul located in Turkey

Know where is Istanbul located in Turkey on Google Map

Information about Istanbul

Name Istanbul
Country Turkey
Continent Eurasia (Western Asia and Southeast Europe)
Came in existence 660 BC
Previous name any Byzantium (660 BC) and Constantinople (330 CE)
Area (Metro) 5,343 km2 (2,063 sq mi)
Area (Urban) 1,539 km2 (594 sq mi)
Population (Metro) 14,657,434 (2015)
Population Density (Metro) 2,691/km2 (6,970/sq mi)
Lat Long 41°00′49″N 28°57′18″E
Name of Monuments Aviation Martyrs’ Monument, Column of Constantine, Column of the Goths, Column of Marcian, Monument of Liberty, Monument of Republic
Places to Visit Hagia Sophia Museum, Grand Bazaar, Basilica Cistern, Topkapi Palace, Bosphorus Strait, Dolmabahce Palace, Gulhane Park, Emirgan Park, Galata Tower, Fatih Mosque and Complex
Time Zone EET (UTC+2)
STD Code +90 -212 (European side) and 216 (Asian side)
Zip Code Start 34000 to 34990
Languages Turkish
Mayor Kadir Topbaş (AKP)
Transportation Taxis, Trams, Car, City bus, Airbus
Rivers Bosphorus and Riva
Lakes Kucukcekmece, Buyukcekmece, Dam and Terkos lake
Mountains Mount Ararat
Airports Istanbul Atatürk Airport (Europe side) and Sabiha Gökçen International Airport (Asia Side)

Where is Sao Paulo

Sao Paulo is located in the southeast Region of Brazil at the elevation of 760 meter from sea level with coordinates or lat long 23°33′S 46°38′W, nearest airport i.e São Paulo-Guarulhos International Airport (IATA: GRU) North-east of the city center in a distance is 24.2 k/m

Where is Sao Paulo located in Brazil

Know where is Sao Paulo located in Brazil on Google Map

Information about Sao Paulo

Name Sao Paulo
Country Brazil
Continent South America
Came in existance  22 April 1500,
Previous name any Na
Area in KM 1,221 km2
Area in miles 588 sq mi
Population 11.32 million
Population Density 7,762.3/km2 (20,104/sq mi)
Lat Long 23.5500° S, 46.6333° W .
Name of Monuments Edificio Copan, Edificio Itália, Faculdade de Direito, Avenida Paulista, Viaduto do Efigenia
Places to Visit Ibirapuera Park, Pinacoteca do Estado de Sao Paulo, Catavento Cultural e Educacional, Paulista Avenue, Museu da Lingua Portuguesa, Mosteiro De Sao Bento, Theatro Municipal De Sao Paulo, Temple of Solomon, Hotel Unique, Estacao Pinacoteca, Instituto Tomie Ohtake, Our Lady of Brazil Church
Time Zone BRT (UTC−3)
STD Code (+55) 11
Zip Code Start 05508-060
Languages English
Mayor Fernando Haddad
Transportation Taxis, car, city bus, Airport
Rivers Tietê River
Lakes China Lake Restaurante
Mountains Mantiqueira Mountains
Airports Congonhas Airport

Where is Manila

Manila is located in the National Capital Region of Philippines at the elevation of 16 meter from sea level with coordinates or lat long 14°35′N 121°00′E, nearest airport i.e Ninoy Aquino International Airport (MNL / RPLL) south of the city center in a distance is 14.2 k/m

Where is Manila located in Philippines

Know where is Manila located in Philippines on Google Map

Information about Manila City

Name Manila [Capital City of Philippines]
Country Philippines
Continent Asia
Came in existence 1571 [Founded by Spanish conquerors who arrived from Mexico]
Previous name any Selurong [13th century]
Area in KM 42.88 sq km
Area in miles 16.56 sq mi
Population 1,780,148[2015]
Population Density 107,496/sq mi
Lat Long 14°35′N 121°00′E
Name of Monuments Rizal Monument, Bonifacio Monument, Lapu-Lapu Shrine, Magellan Shrine, Leyte Landing Monument
Places to Visit San Agustin Church, Intramuros, Fort Santiago, Robinsons Place Mall, Manila Cathedral, Rizal Park, Casa Manila, Rizal Shrine, University of Santo Tomas, Quiapo Church, Malate Church, Monastery of Saint Agustin, Binondo Church, San Sebastian Church
Time Zone UTC+08:00
STD Code +(63)[0]2.
Zip Code Start 0900 to 1096
Languages Tagalog and Filipino .
Mayor Joseph Ejercito Estrada
Transportation Taxis, Car, City bus, Airbus, Metro
Rivers Pasig River
Lakes Jamboree Lake and Laguna Lake
Mountains Smokey Mountain
Airports Ninoy Aquino International Airport

Where is Karachi

Karachi is located in the Sindh Region of Pakistan at the elevation of 8 meter from sea level with coordinates or lat long 24°51′36″N 67°0′36″E, nearest airport i.e Jinnah International Airport Karachi (IATA code: KHI) east of the city center in a distance is 19.2 k/m

Where is Karachi located in Pakistan

Know where is Karachi located in Pakistan on Google Map

 

Information about Karachi

Name Karachi
Country Pakistan
Continent Asia
Came in existence 1742 (As per Dutch document)
Previous name any Kolachi(Till 1742)
Area in KM 3,527 km2
Area in miles 1,362 sq mi
Population 24,300,000 (Est 2016)
Population Density 42.5 people per km2 (2016)
Lat Long 24°51′36″N 67°0′36″E
Name of Monuments Ziarat Residency, Pakistan Monument, House of Abdus Salam, Allama Iqbal’s Tomb, Allama Iqbal Museum, Islamic Summit Minar, Minar-e-Pakistan, Khaliq Dina Public Hall, Quaid-e-Azam’s Mazar, Quaid-e-Azam House Museum, Birthplace of Muhammad Ali Jinnah
Places to Visit Dolmen Mall Clifton, Mazar-E-Quaid, Mohatta Palace Museum, Frere Hall, Boat Basin, Zainab Market, Hilal Park, Ocean Tower, Park Towers, Bin Qasim Park Clifton, Quaid-e-Azam House Museum, Tooba Mosque, Bin Qasim Park, Safari Park
Time Zone GMT+5.
STD Code +(92)21
Zip Code Start 74200 (GPO)
Languages Urdu, Sindhi, Punjabi, Pushto, English
Mayor Sajjad Hussain Abbasi
Transportation Taxis, car, city bus, Airport
Rivers Malir River and Lyari River
Lakes Hub Lake and Haleji Lake
Mountains Frere Hall, Market in Saddar, Jehangir Kothari, Lady Lloyd Pier, Mohatta Palace, Mazar-e-Quaid, Quaid-e-Azam House, Chaukhandi Tombs, Merewether Clock, Karachi Port Trust Office Building, Karachi Cantt Railway Station, St. Patrick’s Cathedral
Airports Jinnah International Airport