Information and Facts about Bhagalpur, Bihar

Information about Bhagalpur

Name Bhagalpur
Country India
Continent Asia
Come in existance
Previous name any Bhagdatpuram
Area in KM 110 km2
Area in miles 40 sq mi
Water Area 110 km²
Population 410,210
Population Density 1,180 inhabitants per square kilometre (3,100/sq mi)
Lat Long 25.3478° N, 86.9824° E
Name of Monuments Vikramshila, Mount Mandar, Colganj Rock Cut Temple, Sultanganj, Kuppa Ghat
Places to Visit Mandar Hills, Ghuran Peer Baba, Vaasupujya Bhagwan Mahavir Jain Mandir, Ancient Vikramsila University, Bhikhanpur, Colganj Rock Cut Temples, Burhanath Temple, Ajgaibinath Temple,
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 641
Zip Code Start 812001
Languages Angika, Hindi
Mayor Deepak Bhuwania
Rivers Ganges
Airports Bhagalpur Airport

 

Historical Facts about Bhagalpur in Hindi

भागलपुर बिहार प्रान्त का एक शहर है। गंगा के तट पर बसा यह एक अत्यंत प्राचीन शहर है। पुराणों में और महाभारत में इस क्षेत्र को अंग प्रदेश का हिस्सा माना गया है। भागलपुर के निकट स्थित चम्पानगर महान पराक्रमी शूरवीर कर्ण की राजधानी मानी जाती रही है।भागलपुर सिल्क के व्यापार के लिये विश्वविख्यात रहा है,पवित्र् गंगा नदी को जाह्नवी के नाम से भी जाना जाता है। जिस स्‍थान पर गंगा को यह नाम दिया गया उसे अजगैवी नाथ कहा जाता है यह तीर्थ भी भागलपुर में ही है। बिहार के गौरवशाली इतिहास में भागलपुर एक नगीने की तरह है।

इतिहास में झांकें तो हम पाते हैं बीते समय में भागलपुर भारत के दस बेहतरीन शहरों में से एक था। आज का भागलपुर सिल्‍क नगरी के रूप में ज्‍यादा जाना जाता है। इसका इतिहास काफी पुराना है। भागलपुर को (ईसा पूर्व 5वीं सदी) चंपावती के नाम से जाना जाता था। यह वह काल था जब गंगा के मैदानी क्षेत्रों में भारतीय सम्राटों का वर्चस्‍व बढ़ता जा रहा था। अंग 16 महाजनपदों में से एक था जिसकी राजधानी चंपावती थी।

अंग महाजनपद को पुराने समय में मलिनी, चम्‍पापुरी, चम्‍पा मलिनी, कला मलिनी आदि आदि के नाम से जाना जाता था।जबकि कर्ण पर्व में अंग को एक ऐसे प्रदेश के रूप में जाना जाता था जहां पत्‍नी और बच्‍चों को बेचा जाता है। वहीं दूसरी ओर महाभारत में अंग (चम्‍पा) को एक तीर्थस्‍थल के रूप में पेश किया गया है। इस ग्रंथ के अनुसार अंग राजवंश का संस्‍थापक राजकुमार अंग थे। जबकि रामयाण के अनुसार यह वह स्‍थान है जहां कामदेव ने अपने अंग को काटा था।

 

भागलपुर के मुख्य आकर्षण

मंदार पहाड़ी-

यह पहाड़ी भागलपुर से 48 किलोमीटर की दूरी पर है, जो अब बांका जिले मे स्थित है। इसकी ऊंचाई 800 फीट है। इसके संबंध में कहा जाता है कि इसका प्रयोग सागर मंथन में किया गया था। किंवदंतियों के अनुसार इस पहाड़ी के चारों ओर अभी भी शेषनाग के चिन्‍ह को देखा जा सकता है, जिसको इसके चारों ओर बांधकर समुद्र मंथन किया गया था। कालिदास के कुमारसंभवम में पहाड़ी पर भगवान विष्‍णु के पदचिन्‍हों के बारे में बताया गया है। इस पहाड़ी पर हिन्‍दू देवी देवताओं का मंदिर भी स्थित है।

विक्रशिला विश्‍वविद्यालय

-विक्रमशिला विश्‍वविद्यालय नालन्‍दा के समकक्ष माना जाता था। इसका निर्माण पाल वंश के शासक धर्मपाल  ने करवाया था। धर्मपाल ने यहां की दो चीजों से प्रभावित होकर इसका निर्माण कराया था। पहला, यह एक लोकप्रिय तांत्रिक केंद्र था जो कोसी और गंगा नदी से घिरा हुआ था। यहां मां काली और भगवान शिव का मंदिर भी स्थित है।

कहलगांव

-यहां तीन छोटे-छोटे टापू हैं। कहा जाता है कि जाह्नु ऋषि के तप में गंगा की तीव्र धारा से यहीं पर व्‍यवधान पड़ा था। इससे क्रो‍धित होकर ऋषि ने गंगा को अपनी जांघ में कर लिया था। बाद में राजा भागीरथ के प्रार्थना के उपरांत उन्‍होंने गंगा को छोड़ दिया। इसके बाद से गंगा की धाराएं बदल गई और यह दक्षिण से उत्‍तर की ओर गमन करने लगी। एक मात्र पत्‍थर पड़ बना हुआ मंदिर भी देखने लायक है।

Bihar News in Hindi , History of Bhagalpur, बिहार की ताज़ा खबरें, बिहार समाचार, बिहार न्यूज़ हिंदी ,

Bhagalpur News in Hindi

Information about BhagalpurAll information about Bhagalpur

 

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.