Information and Historical Facts about Hyderabad

Information about Hyderabad

Name Hyderabad
Country India
Continent Asia
Come in existance 24-Nov-1949
Previous name any Baghnagar
Area in KM 650 km2
Area in miles 250 sq mi
Water Area 650 km²
Population 6,809,970
Population Density 10,477/km2 (27,140/sq mi)
Lat Long 17.3850° N, 78.4867° E
Name of Monuments Chowmahalla Palace, Charminar, Falaknuma Palace, Golconda Fort, Qutub Shahi Tombs, The Buddha Of Hussain Sagar
Places to Visit Birla Mandir, Ramoji Film City, Salar Jung Museum, Chilkur Balaji Temple, Taj Falaknuma Palace, Golkonda Fort, Shri Jagannath Temple, Chowmahalla Palace, Nehru Zoological Park, Charminar, Buddha Statue, Inorbit Mall, Peddamma Temple, Hyderabad International Convention Center, NTR Garden, Lumbini Park, KBR National Park, Qutab Shahi Tombs, Mecca Masjid, GVK One Mall, Surendrapuri, Sanghi Temple
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 040
Zip Code Start 500089
Languages Telugu, Urdu
Mayor Bonthu Ram Mohan
Rivers Musi River
Airports Rajiv Gandhi International Airport

 

Historical Facts about Hyderabad in Hindi

हैदराबाद का इतिहास सन 1591 से शुरू होता है, जब “कुतुब शाही” राजवंश के एक शासक मुहम्मद कुली कुतुब शाह ने मूसी नदी के तट पर 1591 में हैदराबाद शहर की स्थापना की, उसी साल, चारमीनार बनवाने का भी आदेश दिया। मुहम्मद कुली कुतुब शाह एक स्थानीय बंजारा लड़की भागमती से प्रेम कर बैठा था, लड़की से शादी के बाद उसने इस शहर का नाम भाग्यनगरम् रखा। 1592 में इस्लाम स्वीकार करने के बाद, भागमती का नाम हैदर महल हुआ।

१६वीम शताब्दी और शुरुआती १७वीं शताब्दी में, जैसे जैसे कुतुब शाही राजवंश की शक्ति और सत्ता बढती गयी, हैदराबाद हीरों के व्यापार का केंन्द्र बनता गया

सन १६८७ में, मुगल शासक ऒरंगजेब ने हैदराबाद पर अधिकार कर लिया। मुगल शासन के दॊरान, हैदराबाद का सॊभाग्य क्षय होने लगा। जल्द ही, मुगल शासक के द्वारा नियुक्त शहर के सूबेदार ने अधिक स्वायत्ता प्राप्त कर ली। और सन १७२४ में असफ़ जाह प्रथम, जिसे मुगल सम्राट ने “निजाम-ए-मुल्क” का खिताब दिया था, ने एक विरोधी अधिकारी को हैदराबाद पर अधिकार स्थापित करने में हरा दिया। इस तरह आसफ़ जाह राजवंश का प्रारंभ हुआ, जिसने हैदराबाद पर भारत की स्वतंत्रता के एक साल बाद (1948) तक शासन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.