Where is Lucknow

Lucknow city is located in the central part of Uttar Pradesh, Lucknow comes in Lucknow district as well as Lucknow division of Uttar Pradesh, the Lat. Long. 27.13°N 81.93°E, and the height of this city from sea level is 123 meter, Lucknow city is 0 km from Lucknow i.e capital of Uttar Pradesh and 590 Km east from Delhi.
Neighboring districts of Lucknow are Sitapur in North side, Barabank and Rae Bareli District in Eastern side, Hardoi and Unnao West side.

Information about Lucknow

Name Lucknow
Country India
Continent Asia
Area in KM 2,528 km2
Population 2817105(2011)
Population Density 1,815 inhabitants per square kilometre (4,700/sq mi)
Lat Long 26.8467° N, 80.9462° E
Places to Visit Bara Imambara, Hazratganj, British Residency, Lucknow Zoo, Rumi Darwaza, Chhota Imambara, La Martiniere College, Janeshwar Mishra Park, Aminabad, Moti Mahal, Vidhan Sabha Bhawan Council House, Chandrika Devi Temple, Fun Republic Mall, Constantia House, Lucknow University, Shah Najaf Imambara, Chakra Tirth Temple, Dilkusha Kothi Palace, Begum Hazrat Mahal Park, Juma Masjid, Kaiserbagh Palace
Time Zone IST (UTC+5:30)
STD 0522
Zip Code Start 226001
Languages Hindi, Urdu, English
Mayor Dinesh Sharma
Rivers Gomati River
Airports Chaudhary Charan Singh International Airport

Where is Lucknow Located in Uttar Pradesh, India

Location Map of Lucknow showing on Google map of Uttar Pradesh, India

History Lucknow in Hindi

लखनऊ प्राचीन कोसल राज्य का हिस्सा था। यह भगवान राम की विरासत थी जिसे उन्होंने अपने भाई लक्ष्मण को समर्पित कर दिया था। अत: इसे लक्ष्मणावती, लक्ष्मणपुर या लखनपुर के नाम से जाना गया, जो बाद में बदल कर लखनऊ हो गया। यहां से अयोध्या भी मात्र ८० मील दूरी पर स्थित है। एक अन्य कथा के अनुसार इस शहर का नाम, ‘लखन अहीर’ जो कि ‘लखन किले’ के मुख्य कलाकार थे, के नाम पर रखा गया था। लखनऊ के वर्तमान स्वरूप की स्थापना नवाब आसफ़ुद्दौला ने १७७५ ई. में की थी। अवध के शासकों ने लखनऊ को अपनी राजधानी बनाकर इसे समृद्ध किया। लेकिन बाद के नवाब विलासी और निकम्मे सिद्ध हुए। इन नवाबों के काहिल स्वभाव के परिणामस्वरूप आगे चलकर लॉर्ड डलहौज़ी ने अवध का बिना युद्ध ही अधिग्रहण कर ब्रिटिश साम्राज्य में मिला लिया। १८५० में अवध के अन्तिम नवाब वाजिद अली शाह ने ब्रिटिश अधीनता स्वीकार कर ली। लखनऊ के नवाबों का शासन इस प्रकार समाप्त हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.